Followers

Sunday, 6 July 2014

कल रात को नींद बहुत मुश्किल से आई
देर रात तक तुम्हारे बारे में ही सोचा
फिर तुम्हारा भी ख्याल आया मैं सोचने लगी
शायद तुम भी आज मेरी तरह ही परेशान हुए होंगे ना ??
मेरे शब्द तुम्हें बहुत आहात कर जाते हैं ना ??
तुम भी डर रहें होंगें यह सोचकर कि क्या सच में मैं अब कभी तुम याद नहीं करुँगी ??
मेरी और तुम्हारी जिंदगी कितनी अलग हैं ना
बिल्कुल दो नादाँ परिंदों सी फिर भी

2 comments:

Kailash Sharma said...

बहुत मर्मस्पर्शी...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

Manish Panche said...

मुझे आपका ब्लॉग बहुत पसंद आया ! खास कर आपका लिखने का तरीका ~! मैंने भी एक ऐसा ही ब्लॉग बनाने की कोशिस की है !

लिंक दे रहा हूँ.....
http://mxlinks4u.blogspot.in/
http://manish-panche.blogspot.in/

कृपया मेरा मार्गदर्शन करे